Gateways To Joy
/
Tabla
/
Teental – Part 18 of 18
Teental – Part 18 of 18
1 Mar 2009
Part 1
Part 2
Part 3
Part 4
Part 5
Part 6
Part 7
Part 8
Part 9
Part 10
Part 11
Part 12
Part 13
Part 14
Part 15
Part 16
Part 17
Part 18
Compositions in Teental ( तीनताल — 16 beats): धा धिं धिं धा | धा धिं धिं धा | धा तिं तिं ता | ता धिं धिं धा.
Composition R-1

The 'Paran' below reminds me of Pakhawaj. It can be played very fast.

धागेतिट धागेतिट तागेतिट तागेतिट
क्ङधेतिट धागेतिट गदिगिन नागेतिट
कतिटत गेननग तिटकता गदिगिन
धाऽ धागेतिट कतिटत गेननग
तिटकता गदिगिन धाऽ धागेतिट
कतिटत गेननग तिटकता गदिगिन
धाऽ

Composition R-2

Four variations on a similar theme that remind me of fire-crackers.

तिरकिट तकतिर किटतक ता तिरकिट तकतिर किटतक तिन्
कऽतिर किटधि तिट धाति धा धाति धा धाति
धा
तिरकिट तकतिर किटतक ता तिरकिट तकतिर किटतक तिन्
तिरकिट तकतिर किटतक धैत्त धागे नधा धाति
धा
तिरकिट तकतिर किटतक ता तिरकिट तकतिर किटतक तिन्
तिरकिट तकतिर किटतक धैत्त घिन्तिर किटतक तिरकिट
धा
तिरकिट तकतिर किटतक ता तिरकिट तकतिर किटतक तिन्
धाऽऽ ऽधाऽ ऽऽति ऽऽऽ धाऽऽ ऽधाऽ ऽऽति ऽऽऽ
धा
Note the change of rhythm in the last variation: there is a switch from 4 notes per beat to 3 notes per beat. If you are new to this concept, try saying 1-2-3-4-5-6 (six notes) in 4 beats repeatedly until you become proficient.

Composition R-3

A fast-paced short piece:

कत् ऽधा ऽर धाऽ तिरकिट तकता किट धाऽ
तकि टधि नक धाङा घेघे नक दिन ताऽ
कत धाऽ तिरकिट धाऽ तिरकिट तकतिर किटतक धाऽ
ऽत किट धाऽ ऽत किट धाऽ ऽत किट
धा

Composition R-4

A melodious गत that can be developed further:

घेना ऽधा ऽङ धाऽ तक धिन तक धिन धाऽतिर किटधिऽ किट घिन तक धिन तक धिन
तक तक तक तक तिन तिन तिन तिन धाऽतिर किटधिऽ किट घिन तक धिन तक धिन
केना ऽता ऽङ ताऽ तक तिन तक तिन ताऽतिर किटतिऽ किट किन तक तिन तक तिन
तक तक तक तक तिन तिन तिन तिन धाऽतिर किटधिऽ किट घिन तक धिन तक धिन

Composition R-5

A piece that should be played explosively:

धङन्न ताधा धिऽतिरकिटतक ताऽऽऽ
कऽतिरकिटतक धाधि त्तगेऽन धित्ता
धाऽक्ङधा ऽनकत धिऽतिरकिटतक ताधा
ऽताऽन धाऽऽता ऽनधाऽ ऽताऽन
धाऽऽऽ ऽऽऽता धिऽतिरकिटतक ताधा
ऽताऽन धाऽऽता ऽनधाऽ ऽताऽन
धाऽऽऽ ऽऽऽता धिऽतिरकिटतक ताधा
ऽताऽन धाऽऽता ऽनधाऽ ऽताऽन
धा

Composition R-6

A fast-paced Paran:

कधा किटतक तकिटधा ऽनधागे
तिरकिट दिन्ऽ दिन् दिन् धागेतिर
किटधागे तिरकिट के कऽतिट
घेघेतिट धाऽक्ङधा ऽनकत् धिना
धिट कता कत् धिरधिर किटतक तकिट
धा धिरधिर किटतक तकिट धा धिरधिर किटतक तकिट
धा धिना
धिट कता कत् धिरधिर किटतक तकिट
धा धिरधिर किटतक तकिट धा धिरधिर किटतक तकिट
धा धिना
धिट कता कत् धिरधिर किटतक तकिट
धा धिरधिर किटतक तकिट धा धिरधिर किटतक तकिट
धा
I never learnt how to play धिरधिर very well. So I used to substitute धिरधिर किटतक तकिट धा by घिन्तिर किटतक तिरकिट धा , which sounds quite reasonable.

Composition R-7 (Chakradaar)

The composition below has 27 beats. If you repeat three times, you get 81 beats, which is 5 times 16 plus one. The last धा of 81 beats is synchronized with the beginning of Teental (धा धिं धिं धा ...)

धिन् धिन् धाधा तूना कत्ता ऽ तिर किटतक धाऽक्ङधा ऽनकत
धिरधिरकिटतक धातिरकिटतक तूनाकिटतक तातिरकिटतक ऽऽतिर किटतक धिरधिरकिटतक तक्ङान्
धा ऽऽतिर किटतक धिरधिरकिटतक तक्ङान् धा ऽऽतिर किटतक
धिरधिरकिटतक तक्ङान् धा

The धिरधिरकिटतक may be replaced by घिन्तिरकिटतक by those who cannot play धिरधिरकिटतक yet (which includes me).

Composition R-8

An easy paced composition with seven notes per beat, making this challenging to play.

धा ऽ न धा गे ति ट धा गे न धि न गि न
ना गे न ना ना किट तक तिर किट तक ता ऽ किट तक
त ऽ क धा गे धि ट धा गे न धि न गि न
क्ङ धे ऽ धि ट धि ट धा गे न धा ऽ किट तक
ता ऽ न ता ऽ किट तक धा ऽ न धा ऽ किट तक
धा ऽ ऽ ऽ ऽ किट तक ता ऽ न ता ऽ किट तक
धा ऽ न धा ऽ किट तक धा ऽ ऽ ऽ ऽ किट तक
ता ऽ न ता ऽ किट तक धा ऽ न धा ऽ किट तक
धा

Composition R-9

धिट धिट क्ङधिं ऽता धिं ता ता त्रक
थुं थुं नाना किट क्ङधा तिट धाऽतिर किटधिऽ
नक धिन धा धाऽतिर किटधिऽ नक धिन
धा धा धाऽतिर किटधिऽ नक धिन धा धा
धा

Composition R-10 (Chakradaar)

The composition below has 27 notes. Played three times, we get 81 notes, which equals 80 plus 1. The last धा would coincide with the धा of Teental ( धा धिं धिं धा ).

धिटधिट घिङनग तिरकिटतकताऽ किटतक धिटतक ऽत्तधिट तकऽत्त कतकत
धिरधिरकिटतक धाऽतिरकिटतक तक्ङाऽन धाऽकत घिनतङा ऽनधाऽ धिंऽऽता ऽकऽत
धाऽकत घिनतङा ऽनधाऽ धिंऽऽता ऽकऽत धाऽकत घिनतङा ऽनधाऽ
धिंऽऽता ऽकऽत धाऽ

© Copyright 2008—2017, Gurmeet Manku.
Send me email